जयपुर के SMS अस्पताल प्रशासन ने जगह जगह चिपकाये QR Code, Scan करके कर सकते है सफाई व्यवस्था से संबंधित शिकायत

Home INDIA जयपुर के SMS अस्पताल प्रशासन ने जगह जगह चिपकाये QR Code, Scan करके कर सकते है सफाई व्यवस्था से संबंधित शिकायत
जयपुर के SMS अस्पताल प्रशासन ने जगह जगह चिपकाये QR Code, Scan करके कर सकते है सफाई व्यवस्था से संबंधित शिकायत

जयपुर। जयपुर के सबसे बड़े सवाई मान सिंह (एसएमएस)अस्पताल के प्रशासन ने इस सरकारी अस्पताल में सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए एक नई पहल करते हुए विभिन्न स्थानों पर क्यूआर कोड चस्पा किये गये हैं जिसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति सफाई के संबंध में शिकायत कर सकता है। शिकायत का तुरंत समाधान किया जा रहा है। सवाई मान सिंह अस्पताल के अधीक्षक डॉ. अचल शर्मा ने बताया कि एसएमएस अस्पताल के मुख्य भवन और उससे जुड़े बांगड़ अस्पताल के गलियारों जैसे कई स्थानों पर क्यूआर कोड चस्पा किये गए हैं। 

शर्मा ने कहा कि इसके जरिये पिछले लगभग 10 दिनों में कई शिकायतें मिली हैं जिनका समाधान किया गया है। उन्होंने कहा कि यह पहल मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के निर्देश पर की गई क्योंकि मुख्यमंत्री ने उदयपुर के एक सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में इस प्रणाली को देखा था। शर्मा ने कहा कि इस पहल के तहत कोई भी व्यक्ति मोबाइल फोन के जरिए क्यूआर कोड स्कैन करके तस्वीरें अपलोड कर सकता है जिससे शिकायत सुपरवाइजर तक पहुंचती है और उसका तुरंत समाधान किया जाता है। उन्होंने कहा कि इस प्रणाली का विस्तार किया जा रहा है और अब वार्डों जैसे अधिक स्थानों पर क्यूआर कोड लगाए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री बनने के बाद भजनलाल शर्मा ने सवाई मान सिंह अस्पताल का दौरा किया था और वहां की सफाई व्यवस्था और स्टाफ की उपस्थिति सहित अन्य व्यवस्थाएं देखी थीं। उन्होंने खराब सफाई व्यवस्था को देखकर नाराजगी जताई थी और चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जयपुर के एसएमएस अस्पताल समेत प्रदेश के हर अस्पताल में बुनियादी सुविधाएं सुधारने के निर्देश दिए थे। अब एसएमएस अस्पताल में सफाई व्यवस्था की निगरानी के लिए यह क्यूआर कोड सुविधा शुरू की गई है। इसमें वार्ड, शौचालय या गलियारे या अस्पताल परिसर में कहीं भी गंदगी दिखने पर मरीज या उसके परिजन मोबाइल से उसकी फोटो खींचकर या क्यूआर कोड स्कैन करके अपनी लिखित शिकायत भेज सकते हैं।

डिस्क्लेमर: प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.