Mukesh Ambani अब बेचेंगे पान पसंद, इस कंफेक्शनरी ब्रांड को करेगी अपने नाम

Home BUSINESS Mukesh Ambani अब बेचेंगे पान पसंद, इस कंफेक्शनरी ब्रांड को करेगी अपने नाम
Mukesh Ambani अब बेचेंगे पान पसंद, इस कंफेक्शनरी ब्रांड को करेगी अपने नाम

भारत और एशिया के सबसे बड़े रईस मुकेश अंबानी अब एक और कंपनी के मालिक बन गए है। रिलायंस कंज्यूमर ने रावलगांव शुगर फार्म के कॉफी ब्रेक और पान पसंद जैसे कंफेक्शनरी ब्रांड का अधिग्रहण करने का फैसला किया है। यानी अब एफएमसीजी कंपनी रिलायंस कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स रावलगांव शुगर फार्म के कंफेक्शनरी प्रोडक्ट्स बेचेगी। दोनों कंपनियों के बीच 27 करोड़ रुपये में ये डील हुई है।

इस डील के अंतर्गत ट्रेडमार्क्स, रेसिपीज, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स भी रिलायंस के पास होंगे। दोनों कंपनियों के बीच हुई इस डील की जानकारी रावलगांव ने शुक्रवार को दी है। बता दें कि रावलगांव शुगर फार्म मैंगो मूड, कॉफी ब्रेक, टूटी फ्रूटी, पान पसंद, चॉको क्रीम और सुप्रीम जैसे ब्रांड से जुड़ी थी, जिसका अधिग्रहण इस डील के बाद रिलायंस के पास होगा।

रावलगांव शुगर फार्म ने इस डील के तहत इन उत्पादों के ट्रेडमार्क, उत्पादन नुस्खे और सभी बौद्धिक संपदा अधिकार रिलायंस कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड (आरसीपीएल) को बेच दिए हैं। आरसीपीएल रिलायंस समूह की खुदरा इकाई रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) की अनुषंगी है। रावलगांव शुगर फार्म ने शेयर बाजार को दी गई सूचना में कहा कि उसके निदेशक मंडल ने इन ब्रांड के ट्रेडमार्क एवं बौद्धिक संपदा अधिकारों की बिक्री और हस्तांतरण आरसीपीएल को 27 करोड़ रुपये के सौदे में करने को मंजूरी दे दी है। 

हालांकि रावलगांव शुगर ने कहा कि प्रस्तावित सौदा पूरा होने के बाद भी संपत्ति, जमीन, संयंत्र, भवन, उपकरण, मशीनरी जैसी अन्य सभी परिसंपत्तियां उसके पास बनी रहेंगी। कंपनी ने कहा कि हाल के वर्षों में उसके लिए अपने कंफेक्शनरी व्यवसाय को बनाए रखना मुश्किल हो गया है। उसने संगठित और असंगठित दोनों खिलाड़ियों से प्रतिस्पर्धा में वृद्धि के कारण बाजार हिस्सेदारी खो दी है।

बता दें कि रावलगांव शुगर फार्म की स्थापना कारोबारी वालचंद हीराचंद ने वर्ष 1933 में की थी। वर्ष 1942 में ही कंपनी ने अपनी टॉफी बनाने का काम शुरू किया है। कंपनी पान पसंद, मैंगो मूड और कॉफी ब्रेक जैसे कुल नौ ब्रांड्स चलाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.