स्विमिंग या तैराकी क्या है? जानें इसका इतिहास और नियम, पेरिस ओलंपिक में भारत को मेडल की आस

Home SPORTS स्विमिंग या तैराकी क्या है? जानें इसका इतिहास और नियम, पेरिस ओलंपिक में भारत को मेडल की आस
स्विमिंग या तैराकी क्या है? जानें इसका इतिहास और नियम, पेरिस ओलंपिक में भारत को मेडल की आस

तरण या तैराकी एक जलक्रीडा है। इसके अंतर्गत अपने हाथ-पैर की सहायता से पानी में गति करना होता है। जो किसी कृत्रिम साधन के बिन किया जाता है।

 वहीं ओलंपिक तैराकी में व्यक्तिगत और टीम स्पर्धा दोनों ही शामिल हैं। जहां प्रतियोगी किसी एक स्ट्रोक का इस्तेमाल करते हुए आउटडोर या इनडोर स्विमिंग पूल में पानी के अंदर अपनी तैराकी कौशल का प्रदर्शन करते हैं। जिन्हें फ्रीस्टाइल, बैकस्ट्रोक, ब्रेस्टस्ट्रोक या बटरफ्लाई कहते हैं। 

तैराकी या स्विमिंग को ओलंपिक खेलों में शामिल मैराथन स्विमिंग या आर्टिस्टिक स्विमिंग दोनों ही अलग अलग डिसिप्लिन हैं। 

 

तैराकी का इतिहास

पुराने समय में नदियों और झीलों को पार करने के लिए तैरने की कला को तैराकी कहते थे। इस बात का प्रमाण मिस्त्र से प्राप्त पाषाण युग के गुफा चित्र से मिलता है। जिसपर तैराकों को चित्रित किया गया था। तैराकी का वर्णन ग्रीक पौराणिक कथाओं में भी देखने को मिलता है। 

19वीं सदी की शुरुआत में तैराकी, व्यापक रूप से अभ्यास में नहीं थी। इसके बाद ग्रेट ब्रिटेन की नेशनल स्विमिंग सोसाइटी ने तैराकी की प्रतियोगिताओं का आयोजन करना शुरू किया। शुरुआत में अधिकांश तैराक, ब्रेस्टस्ट्रोक या इसी के एक रूप का इस्तेमाल किया करते थे। 

मूल दक्षिण अमेरिका लोगों द्वारा इस्तेमाल किए गए स्ट्रोक के आधार पर, क्रॉल के पहले संस्करण में कैंची किक देखने को मिली। 1880 के दशक के अंतिम सालों में, प्रेडरिक कैविल नाम के एक अंग्रेज ने दक्षिण समुद्र की यात्रा की, जहां उन्होंने मूल निवासियों को फ्लटर किक के साथ क्रॉल का प्रदर्शन करते देखा। कैविल ऑस्ट्रेलिया में बस गए, जहां उन्होंने स्ट्रोक का प्रशिक्षण दिया जो ऑस्ट्रेलियाई क्रॉल के रूप में मशहूर हुआ। 

तैराकी के नियम

  • चार स्ट्रोक- फ्रीस्टाइल, ब्रैकस्ट्रोक, ब्रेस्टस्ट्रोक और बटरफ्लाई- एथलीट इनमें से किसी एक या इन सभी का इस्तेमाल करते हुए अगल-अलग मेडल इवेंट्स में रेस करते हैं। 
  • फ्रीस्टाइल, ब्रेस्टस्ट्रोक और बटरफ्लाई और आईएम इवेंट्स के लिए, तैराक ऊंचाई पर स्थित एक स्टार्टिंग प्लेटफॉर्म से पानी में गोता लगाते हैं। जबकि बैकस्ट्रोकर्स स्टार्टिंग ब्लॉक को पकड़कर रेस की शुरुआत करते हैं। 
  • वहीं रिले रेस में किसी टीम के दूसरे, तीसरे और चौथे तैराक अपने चरण की रेस तबी शुरू कर सकते हैं जब उनसे पहले वाले तैराक ने वाल को छू लिया हो। 
  • बता दें कि, स्विमिंग पूल की लंबाई 50 मीटर होती है, जिसे आठ लेन में बांटा जाता है। 

ओलंपिक में तैराकी की शुरुआत

तैराकी सबसे पुराने ओलंपिक खेलों में से एक है। तैराकी एथेंस 1896 के बाद से हर आधुनिक ओलंपिक खेल का हिस्सा रहा है। महिलाओं ने स्टॉकहोम 1912 सीजन में प्रतिस्पर्धा की शुरुआत की, और मिक्स्ड मेडल रिले की शुरुआत टोक्यो 2020 ओलंपिक में हुई। 

ओलंपिक 2024 में भारत को मेडल की आस

पेरिस ओलंपिक 2024 की बात करें तो भारत को तैराकी में मेडल की उम्मीद है। पिछले साल चीन में हुए एशियाई खेलों में 200 मीटर बटरफ्लाई स्पर्धा में  साजन प्रकाश से मेडल की उम्मीदे थी लेकिन वो छठे स्थान पर रहे। लेकिन इस बार पेरिस ओलंपिक 2024 में भारत को तैराकी में इतिहास रचने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.