World Epilepsy Day 2024: जानिए मिर्गी और दौरे के संबंध में यह 5 मिथक, आसान हो जाएगी लाइफ

Home HEALTH World Epilepsy Day 2024: जानिए मिर्गी और दौरे के संबंध में यह 5 मिथक, आसान हो जाएगी लाइफ
World Epilepsy Day 2024: जानिए मिर्गी और दौरे के संबंध में यह 5 मिथक, आसान हो जाएगी लाइफ

मिर्गी और दौरे के बारे में जागरूकता की कमी हमारे समाज में देखने को मिलती है, जिस पर कभी ध्यान नहीं दिया जाता है। जबकि कई लोगों में मिर्गी क्या है इसकी सामान्य समझ है, लेकिन इसकी स्थिति और लोगों के जीवन पर इसके प्रभाव के बारे में कोई जानकारी नहीं है। इस अंतर्राष्ट्रीय मिर्गी दिवस पर, यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि मिर्गी केवल कभी-कभार होने वाले दौरे का अनुभव नहीं है और यह किसी के शारीरिक, मानसिक और इमोशनल कल्याण को गहराई से प्रभावित कर सकती है। डॉक्टर के मुताबिक, “जागरूकता की कमी से मिर्गी से पीड़ित लोगों के खिलाफ भेदभाव हो रहा है, जिससे उनके रोजमर्रा के अनुभव और जटिल हो रहे हैं।

मिर्गी बहुत दुर्लभ है 

 मिर्गी देश में लाखों लोगों को प्रभावित करती है और यह एक प्रचलित तंत्रिका संबंधी रोग है। सिर की चोट, मस्तिष्क संक्रमण, स्ट्रोक, मस्तिष्क ट्यूमर, अल्जाइमर रोग, मस्तिष्क विकृति और आनुवंशिक प्रवृत्ति जैसे कारक इसके विकास में योगदान देने के लिए जाने जाते हैं। यह आमतौर पर सभी आयु वर्ग के लोगों में देखा जाता है।

मिर्गी और दौरे का मतलब बिल्कुल एक ही है

  दौरे तब पड़ते हैं जब मस्तिष्क की विद्युत गतिविधि में अस्थायी बाधा होता है. कुछ लोगों को अपने जीवन के किसी स्टेज में दौरे का अनुभव रहा होगा। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि एक भी दौरे का अनुभव होना जरूरी नहीं कि मिर्गी का संकेत हो। मिर्गी एक तंत्रिका संबंधी विकार है जिसमें बार-बार दौरे पड़ते हैं।

मिर्गी में हमेशा ऐंठन होती है, जिसमें हिलना-डुलना होता है

मिर्गी विभिन्न रूपों में आते हैं, हर एक के अलग-अलग लक्षण होते हैं। इनमें मोटर लक्षण जैसे झटके लगना, मांसपेशियों में कमजोरी या कठोरता और मरोड़ या ऐंठन शामिल हो सकते हैं। गैर-मोटर लक्षण भी हो सकते हैं, जैसे घूरना, संवेदना, भावनाओं, सोच या अनुभूति में बदलाव, या गति की कमी।

मिर्गी चमकती रोशनी और तनाव से शुरू होती है

 मिर्गी का यह रूप  खास तौर पर युवा व्यक्तियों में अधिक देखने को मिलता है और उम्र बढ़ने के साथ इसकी आवृत्ति कम हो जाती है। दौरे के ट्रिगर हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं और नींद की कमी, तनाव, शराब या नशीली दवाओं के उपयोग, बुखार या बीमारी, हार्मोनल परिवर्तन, पोषण, या कुछ दवाओं जैसे कारकों से प्रभावित हो सकते हैं।

मिर्गी एक मानसिक स्थिति है

 मिर्गी एक तंत्रिका संबंधी विकार है जो असामान्य विद्युत मस्तिष्क गतिविधि के कारण होता है, और यह अक्सर अवसाद और चिंता के साथ होता है। दौरे पड़ने वाले व्यक्ति के साथ भेदभाव का होने का डर रहता है। मिर्गी से पीड़ित लोगों के जीवन में काफी समास्याएं देखने को मिलती है। वहीं डॉक्टर के अनुसार, मिर्गी को मनोरोग की श्रेणी में नहीं रखा जाना चाहिए।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.